तुम आए बरसातों से

तपते ग्रीष्म से जीवन मेंतुम आए बरसातों सेबादल सा उमड़ता प्रेम लिएतुम बरसे रिम-झिम सावन से हम खोये तुम में कुछ ऐसेके होश नहीं अब खुद के भीहै हकीकत या स्वप्न कोईभ्रम है या गहरा नशाा कोई ये भ्रम यूहीं बना रहेस्वप्न कभी ये टूटे नारहे नशे में डूबे हम अबजो मिले हाथ अब छूटे…

थोड़ा और जोर लगाओ यारों

थोड़ा और जोर लगाओ यारोंजीत की घड़िया आयी हैंअभी तो आयी सरकार घुटनों परमुँह के बल भी लाऐंगेंजनता के पाकर वोट जो खुद को समझते राजा हैंये सत्ता किसी की जागीर नहीं हम सब की ही साझा हैथोड़ा और जोर लगाओ यारोंजीत की घड़िया आयी हैंमहलों की दीवारें ऊँची हैंउस से मोटी चमड़ी हैकान पर…

Bye

Ave nii koi teri Akad jarda ae shyad tainu oh Apni jaan to vadd manda ae Teri Ignorance nu sahh k vi Jad koi tere te hi marda ae Onu Chaddi na kde jo Tainu tasbi vich japda ae Besak ishq ona layi Ek umar di daulat naii Pher vi teri khusi layi Oh Ek…

भूलना हमको धीरे धीरे

भूलना हमको धीरे धीरेमेरी नादानी को बेवकूफी कोएक आखिरी पागल सीमुस्कुराहट तो देनाकुछ रात तो देना भूलने मेंजिसने दिये तुम्हे साल कईभूलना हमको धीरे धीरे जिद्द थी बचपना थागुस्सा था लड़ाई थीहम बुरे थे हम में बुराई थीसब कुछ था परप्यार भी था तुमसे ही प्यार जताना आया नहींतुम्हें समझाना आया नहींकुछ दिन तो याद…

तुम से बिछडके

किसे दिखाते वो आंसू तुम से बिछडके जो इन आंखों से फूटे होंगें शब्दों में नहीं गहराई तुम से मिलने की आस में क्या क्या इस दिल ने सपने बुने होंगें क्या गुजरी होगी हम पे जब ये सपने टूटे होंगे इतने पास आकर तेरे जब ये हाथ छूटे होंगें पत्थर से इस दिल से…

Question: How to start a professional blogging?

Please don’t just like read it. Question: How to start a professional blogging? I am writing blogs for almost 3 years. I used to write on Blogspot then I switched on WordPress. There were many reasons to switch. Hopefully, you know. If I point out in short then more control on the blog customised toots,…

नई साल

ना कुछ पाना ना कुछ खोना ना तुम से कोई उम्मीदें ना प्यार के झूठे वादे ना जीने मरने की कसमें ये परवाह करने की आदत ये बिन वजह तुम पे मरना नई साल मे छोड़ेंगे तुम्हें कविताओं में लिखना दर्द छुपाना सीखेंगें तुम्हें भुलाना सीखेंगे ना इतंजार करना ना तुम्हें मांगना कैसे लिखते हैं…

तन्हाई

तुम बिन अब जिया नहीं जाता पर तुम बिन मरके वहाँ भी तो तन्हाई है बस और यादों का बोझ सहा नहीं जाता पर बिन यादों के इस दिल में भी तो तन्हाई है अश्क तो बहा दु मैं भी तुम्हारी तरह पर बिन अश्कों के इस दिल में भी तो तन्हाई है बयाँ कर…

दीपक

प्रेम उस लौ की तरह है जो बाती को जलाये रखता है तेल उस विश्वास और सब्र की तरह है जो पल पल घटता रहता है प्रकाश मेरे गीतों की तरह है जो लोगों को सुनायी देते हैं तुम उस ठंडी हवा की तरह हो जो शीतलता तो नहीं देती जब आती हो इस अग्नि…

“Hi”

Saying a “Hi” is a simple way to melt the ice. Say Hi and go with flow. Don’t lose your family and friends for these two letters. If you are thinking to quit on someone do it at least once. Wait for a moment and think “Have I made an effort to keep this relation…